March 24, 2019
Category: Indian Polity

मूलभूत कर्तव्यों को देशभक्ति और भारत की एकता को बढ़ावा देने के लिए सभी नागरिकों द्वारा नैतिक कर्तव्यों के रूप में माना जाता है। यह मूल संविधान में उपलब्ध नहीं ...

राज्य नीति के निर्देशक सिद्धांत सरकार द्वारा कानून बनाने के लिए दिशा निर्देश हैं। राज्य नीति के निर्देश सिद्धांतों का उद्देश्य सामाजिक और आर्थिक लोकतंत्र ...

भारतीय संविधान का निर्माण एक संविधान सभा द्वारा 2 वर्ष 11महीनें तथा 18दिन में किया गया। संविधान सभा का गठन कैबिनेट मिशन की संस्तुतियों के आधार पर नवम्बर 1946ई. ...

संविधान की प्रस्तावना को “संविधान की कुंजी”कहा जाता है। संविधान की प्रस्तावना में संविधान के ध्येयऔर इसके आदर्शों का विवरण है। सर्वोच्य न्यायालय ने केशवानन्द ...

भारतीय संविधान में मूल रूप से आठ कार्यक्रम थे। यह अब विभिन्न संवैधानिक संशोधनों के माध्यम से बारह तक बढ़ गया है। संविधान में प्रथम संशोधन अधिनियम 1 9 51 से ...

बुनियादी अधिकारों को नागरिकों के मूल मानवाधिकारों के रूप में माना जाता है। ये अधिकार राज्यों के लिए अपने नागरिकों के लिए एक दायित्व भी हैं। यह नागरिक ...

भारतीय संविधान का निर्माण एक संविधान सभा द्वारा 2 वर्ष 11 महीनें तथा 18 दिन में किया गया । संविधान सभा का गठन कैबिनेट मिशन की संस्तुतियों के आधार पर नवम्बर ...

राष्ट्रीयध्वजतिरंगेमेंसमानअनुपातमेंतीनपट्टियाँ है- गहराकेसरियारंगउपर, सफेदबीचमेंऔरहरारंगसबसेनीचे ।सफेदपट्टीमेंनीलेरंगकाचक्रहैजिसमें24तिलियांहै ।ध्वजकीलम्बाई- ...

भारत का राजचिन्ह्सारनाथ स्थित अशोक के सिंहस्तंभ की अनुकृति है।फलक के नीचे मुण्डकोपनिषद् का सूत्रसत्यमेव जयते देवनागरी लिपि में अंकित है । ...

लोक सभा को लोकप्रिय सदन भी कहा जाता है क्योंकि इसके सदस्य जनता द्वारा प्रत्यक्ष रूप से निर्वाचित किये जाते हैं । लोक सभा की अधिकतम सदस्यों की संख्या 552 हो ...